34.3 C
Dehradun
Saturday, November 28, 2020
Home उत्तराखंड सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना...

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना डाली दो किमी सड़क, पढ़िए

- Advertisement -
- Advertisement -

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने बिना सरकारी मदद के अपने गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए दो किलोमीटर सड़क खोद डाली। चमोली जिले के पोखरी विकास खंड की ग्राम सभा सिनाऊं मल्ला व तल्ला के तोक गांव सतभैयाकोट खुलाई के ग्रामीण सड़क सुविधा न होने के कारण पैदल आवाजाही के लिए विवश थे। जिसे लेकर वे लंबे समय से सरकार से मांग कर रहे थे। लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक न रेंगी तो ग्रामीणों ने खुद ही सड़क बनाने का बीड़ा उठाया।

सिनाऊं के प्रधान त्रिलोकी बत्र्वाल और ग्रामीण पूरण सिंह नेगी ने बताया कि आपस में धन एकत्र कर श्रमदान से सड़क खोदी गई। ग्रामीणों को गांव से बाजार आने के लिए दो किलोमीटर का लंबा रास्ता तय करना पड़ता था, परेशानी तब और भी बढ़ जाती थी जब गांव में कोई बीमार हो अथवा गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाना हो। इस काम में छह लाख रुपये खर्च हुए। हालांकि इस मोटर मार्ग पर अभी डमरीकरण नहीं हुआ है। ग्रामीणों ने लोक निर्माण विभाग से इस सड़क को अपने अधीन लेते हुए डामरीकरण की मांग की है।

सड़क बनने के बाद क्षेत्र विधायक को आया होश-

सभी परेशानियों से निजात पाने के लिए ग्रामीणों ने स्वयं मार्ग बनाने का फैसला लिया। ग्रामीणों ने 6 लाख रूपये जुटाए और जेसीबी मशीन से सड़क की कटिंग करने के साथ ही मलवा हटाया। सोचने वाली बात यह है की इस सब के दौरान क्षेत्र के विधायक महेन्द्र भट्ट कहा थे ? क्या उन्हें ग्रामीणों की परेशानियों का अंदाजा नहीं था ? खैर देर आए दरुस्त आए , लगता है अब विधायक महेन्द्र भट्ट को होश आया है और उन्होंने अपने विधायक निधी से 3 लाख रुपये दान किए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हेलीकॉप्टर सेवाओ का किया शुभारम्भ।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की 6वीं बैठक...

उत्तराखंड का इतिहास है बहुत प्राचीन, आइये जाने इसके बारे में ।

उत्तराखंड का इतिहास उतना ही पुराना है जितना कि मानव जाति का। यहाँ कई शिलालेख, ताम्रपत्र व प्राचीन अवशेष भी प्राप्त हुए हैं। जिससे...

जानिए उत्तराखंड के प्रागैतिहासिक काल की विशेषताएं

उत्तराखण्ड के विभिन्न स्थलों से प्राप्त होने वाले पाषाणोपकरण, गुफा, शैल-चित्र, कंकाल मृदभाण्ड तथा धातु-उपकरण प्रागैतिहासिक काल में मानव निवास की पुष्टि करते हैं।...

गढ़वाल राइफल का सपूत बॉर्डर पर शहीद, पाकिस्तानी गोलीबारी में हुए थे घायल

पाकिस्तान सेना ने एक बार फिर जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास पुंछ जिले में संघर्ष विराम का उल्लघंन करते हुए पाकिस्तानी गोलीबारी में...

Recent Comments