34.3 C
Dehradun
Saturday, November 28, 2020
Home उत्तराखंड उत्तराखंड: 7 महीने बाद खुले स्कूल, मगर कोरोना का कहर अब भी...

उत्तराखंड: 7 महीने बाद खुले स्कूल, मगर कोरोना का कहर अब भी जारी, गढ़वाल के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षक कोरोना पॉजिटिव

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तराखंड में 7 महीने के बाद स्कूल खुलते ही स्कूलों से कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने लगे। जहां एक तरफ स्कूल खुलने के पहले ही दिन यानि 2 नवंबर को रानीखेत में एक छात्र कोरोना पॉजिटिव निकल आया तो वही अब पौड़ी गढ़वाल के श्रीनगर में सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले 3 शिक्षक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। तीन शिक्षकों के एक साथ कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद क्षेत्र में हड़कंप मचा है।

बता दे की ये तीनों शिक्षक विकासखंड खिर्सू के अंतर्गत आने वाले सरकारी स्कूलों में पढ़ाते हैं। 2 नवंबर को स्कूल खुलने से पहले शिक्षा विभाग ने शिक्षकों की कोरोना जांच कराई थी। 28 अक्टूबर को इनके सैंपल लिए गए थे। बुधवार को जब सैंपल की रिपोर्ट आई तो शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। श्रीनगर में राजकीय इंटर कॉलेज देवलगढ़, राजकीय इंटर कॉलेज स्वीत और राजकीय हाईस्कूल श्रीकोट के एक-एक शिक्षक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

तीनों स्कूल 1 हफ्ते तक बंद रहेंगे। स्कूलों का सैनेटाइजेशन कराया जाएगा। कोरोना पॉजिटिव मिले शिक्षक पूरी तरह स्वस्थ होने और कोरोना जांच में नेगेटिव आने पर ही स्कूल आएंगे।

खंड शिक्षा अधिकारी खिर्सू प्रेमलाल भारती ने कहा कि इन स्कूलों के एक-एक शिक्षक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसलिए एहतियातन स्कूलों को बंद कर दिया गया है। स्कूलों को सैनेटाइज कराने के आदेश दिए गए हैं। स्कूलों में शिक्षकों और छात्रों के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद शिक्षा विभाग कोविड-19 की गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराने में जुट गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने हेलीकॉप्टर सेवाओ का किया शुभारम्भ।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की 6वीं बैठक...

उत्तराखंड का इतिहास है बहुत प्राचीन, आइये जाने इसके बारे में ।

उत्तराखंड का इतिहास उतना ही पुराना है जितना कि मानव जाति का। यहाँ कई शिलालेख, ताम्रपत्र व प्राचीन अवशेष भी प्राप्त हुए हैं। जिससे...

जानिए उत्तराखंड के प्रागैतिहासिक काल की विशेषताएं

उत्तराखण्ड के विभिन्न स्थलों से प्राप्त होने वाले पाषाणोपकरण, गुफा, शैल-चित्र, कंकाल मृदभाण्ड तथा धातु-उपकरण प्रागैतिहासिक काल में मानव निवास की पुष्टि करते हैं।...

गढ़वाल राइफल का सपूत बॉर्डर पर शहीद, पाकिस्तानी गोलीबारी में हुए थे घायल

पाकिस्तान सेना ने एक बार फिर जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास पुंछ जिले में संघर्ष विराम का उल्लघंन करते हुए पाकिस्तानी गोलीबारी में...

Recent Comments