34.3 C
Dehradun
Saturday, November 28, 2020
Home उत्तराखंड उत्तराखंड: अस्पतालों द्वारा 89 कोरोना संक्रमितों की मौतों के आंकड़े में हुआ...

उत्तराखंड: अस्पतालों द्वारा 89 कोरोना संक्रमितों की मौतों के आंकड़े में हुआ हेरफेर ! छुपायां जा रहा मौतों का आंकड़ा ?

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तराखंड में 89 कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई, लेकिन इन्हें ना तो सरकार ने मरा हुआ माना और ना ही स्वास्थ्य विभाग ने। कोरोना महामारी के बीच प्रदेश के अस्पतालों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। अस्पताल कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा छुपाने में लगे हैं। अस्पतालों की ये करतूत तब सामने आई, जब स्वास्थ्य विभाग ने मौतों के मैन्युअली आंकड़े जुटाने शुरू किए। इस दौरान पता चला कि अस्पतालों में कोरोना से जान गंवाने वाले मरीजों के आंकड़ों में सिर्फ एक-दो नहीं बल्कि पूरे 89 मौतों का हेरफेर था। मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा है। अलग-अलग अस्पतालों ने कोरोना के चलते जान गंवाने वाले 89 मरीजों के बारे में स्वास्थ्य विभाग को कोई जानकारी नहीं दी। इस तरह ये मरीज मरने के बाद भी लचर सिस्टम में जिंदा ही रहे।

स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों में हुई मौत के आंकड़े मैन्युअली जुटाने शुरू किए, तो जो सच सामने आया उसे देख अधिकारियों के पैरों तले जमीन खिसक गई। जांच के दौरान पता चला कि कोरोना से मौत के आंकड़ों में पूरे 89 मौतों का हेरफेर था।

दरअसल शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना को लेकर जो बुलेटिन जारी किया उसमें मरने वालों का आंकड़ा 924 था। जबकि शुक्रवार को मरने वालों का कुल आंकड़ा 829 था। ऐसे में सवाल उठने लगे कि आखिरकार एक दिन में ही कैसे 95 लोगों की कोरोना से मौत हो गई। तब पता चला कि अस्पतालों ने इस बारे में स्वास्थ्य विभाग को बताया ही नहीं था।

किस अस्पताल ने कितने मरीजों का छुपाया मौत का आंकड़ा-

देहरादून के कैलाश अस्पताल ने 28, इंद्रेश अस्पताल ने 24, दून मेडिकल कॉलेज ने 21, एम्स ऋषिकेश ने 2, हिमालयन अस्पताल ने 5, देहरादून के मैक्स अस्पताल ने 2, रुड़की के विनय विशाल हॉस्पिटल ने 2, हरिद्वार के जया मैक्स वेल अस्पताल ने दो और रुद्रपुर के डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल ने तीन मरीजों की मौत की बात छुपाई। इसी संभंध में दून के सीएमओ अनूप कुमार डिमरी ने कहा कि लापरवाही की वजह जानने की कोशिश की जा रही है। आंकड़ों में इतने बड़े अंतर को लेकर अस्पतालों से जवाब मांगा गया है।

वही अस्पतालों और स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आने के बाद एनएचएम की तरफ से सभी प्राइवेट अस्पतालों के साथ ही दून अस्पताल प्रबंधन को भी स्पष्टीकरण दिए जाने के नोटिस थमाए गए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

जानिए उत्तराखंड के प्रागैतिहासिक काल की विशेषताएं

उत्तराखण्ड के विभिन्न स्थलों से प्राप्त होने वाले पाषाणोपकरण, गुफा, शैल-चित्र, कंकाल मृदभाण्ड तथा धातु-उपकरण प्रागैतिहासिक काल में मानव निवास की पुष्टि करते हैं।...

गढ़वाल राइफल का सपूत बॉर्डर पर शहीद, पाकिस्तानी गोलीबारी में हुए थे घायल

पाकिस्तान सेना ने एक बार फिर जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास पुंछ जिले में संघर्ष विराम का उल्लघंन करते हुए पाकिस्तानी गोलीबारी में...

उत्तराखंड में होने वाले प्रमुख मेले, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

गढ़वाल- कुमाऊँ की संस्कृति यहाँ के मेलों में समाहित है।उत्तराखंड में साल भर अलग-अलग उत्सव और मेले का आयोजन होता रहता है। रंगीले कुमाऊँ के मेलों...

उत्तराखंड का जायका: उत्तराखंड का प्रसिद्ध व्यंजन गडेरी बनाने की रेसिपी

उत्तराखंड का जायका दुनियाभर में मशहूर है। उत्तराखंड के पहाड़ी व्यंजन का हर कोई दीवानी है। आज हम आपको उत्तराखंड की एक खास डिश...

Recent Comments