34.3 C
Dehradun
Sunday, February 28, 2021
Home देश सुभाषचंद्र बोस जयंती 2021: महान व्यक़्तित्व के नेता थे सुभाष चंद्र बोस,...

सुभाषचंद्र बोस जयंती 2021: महान व्यक़्तित्व के नेता थे सुभाष चंद्र बोस, लोगों में जगाया देशभक्ति का जज्बा

- Advertisement -
- Advertisement -

आज सभी के लिए बहुत खास दिन है। आज महान व्यक़्तित्व के व्यक्ति सुभाषचंद्र बोस की जयंती है। आज के दिन को पराक्रम दिवस के नाम से मनाया जाता है। सुभाष चंद्र बोस विशुद्ध भारतीय राष्ट्रवादी नेता थे, जिनकी आक्रामक और निडर देशभक्ति ने उन्हें भारत का महानायक बना दिया। लेकिन जिस गांधीजी के सुझाव पर उन्होंने राजनीति में कदम रखा, उन्हीं गाँधी जी की नीतियों का उन्हें बार बार विरोध करना पड़ा।क्योंकि वे अंग्रेजी हुकूमत के सामने किसी भी तरह का समझौता करने के खिलाफ थे। सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को कटक (उड़ीसा) में एक संपन्न बंगाली कायस्थ परिवार में हुआ था। बंगाल के कलकत्ता में कॉलेज की पढ़ाई हुई और ब्रिटेन में आई.सी.एस. अफसर बनकर अपनी काबिलियत का लोहा अपने दुश्मनों को भी मनवा दिया। लेकिन उन्हें अफसरी से मिली आराम और सुविधा की जिंदगी पसंद नहीं थी। उन्हें तो संघर्ष की गाथा लिखनी थी। वे तो योद्धा थे जिन्हें स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई लडऩी थी। स्वतंत्रता आंदोलन को न सिर्फ तहे दिल से अंगीकार किया, बल्कि खुद आजादी की प्रेरणा बन गए-तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा। इस हुंकार के साथ पूरे देश को जगाने में लग गए। उनके विचारों में और उनके व्यक्तित्व में ऐसा करिश्मा था कि जो भी सुनता वो उनका हो जाता। उनकी लोकप्रियता आसमान छूने लगी और वे आम जनता के नेता जी हो गए। सुभाष चंद्र बोस का स्वतंत्रता के लिए संघर्ष भारत ही नहीं, तीसरी दुनिया के तमाम देशों के लिए प्रेरणा साबित हुआ। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद अगले 15 सालों में तीन दर्जन एशियाई देशों में आजादी के तराने गाए गए। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम और सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में लड़ी गई आजादी की लड़ाई का उन पर गहरा प्रभाव रहा। नेताजी का यह रुतबा उन्हें वैश्विक स्तर पर ‘आजादी का नायक’ स्थापित करता है। इस बार पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव होने के कारण नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जंयती की खास चर्चा है। सुभाष चंद्र बोस के 125वें जन्मदिन से पहले केंद्र सरकार ने बड़ा एलान किया है कि अब उनके जन्मदिन 23 जनवरी को देश और दुनिया में हर साल पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी खुद पश्चिम बंगाल जा रहे हैं। वहीं टीएमसी ने भी ऐसी ही योजना बनाई है। इस दिन 125 रुपए सिक्का भी जारी होने जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments