34.3 C
Dehradun
Saturday, January 23, 2021
Home उत्तराखंड अल्मोड़ा अल्मोड़ा का SSJ कॉलेज बिच्छु घास में ढूंढ रहा है कोरोना वायरस...

अल्मोड़ा का SSJ कॉलेज बिच्छु घास में ढूंढ रहा है कोरोना वायरस का इलाज,शोध में पाए गए 23 गुण

- Advertisement -
- Advertisement -

कोविड-19 को रोकने और इसको खत्म करने के लिए हर किसी को इसकी वैक्सीन का इंतजार है। लेकिन कोरोना संकट से जूझ रही पूरी दुनिया के लिए उत्तराखंड से एक राहत भरी खबर सामने आई है। पहाड़ में होने वाले बिच्छू घास में कोरोना वायरस से लड़ने के यौगिक मिले हैं। अल्मोड़ा के सोबन सिंह जीना विवि के जंतु विज्ञान विभाग एवं राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान रायपुर के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के संयुक्त तत्वावधान में इसे लेकर शोध किया गया था। इस शोध में बिच्छू घास में 23 ऐसे यौगिकों की खोज की गई है, जो कोरोना वायरस से लड़ने में सफल साबित हो सकते हैं। पहाड़ में उगने वाली बिच्छू घास में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। बिच्छू घास या कंडाली पहाड़ के खान-पान का भी अहम हिस्सा है । अब वैज्ञानिक शोध ने भी इस बात को साबित कर दिया है कि कंडाली दूसरे रोगों के साथ-साथ कोरोना के खिलाफ भी कारगर हथियार के रूप में साबित हो सकती है। कंडाली एक तरह का जंगली पौधा है। यह हिमालयी इलाकों में पाया जाता है। कुमाऊं में इसे सियूंण कहते हैं, जबकि गढ़वाल में इसे कंडाली कहा जाता है।
सोबन सिंह जीना विवि अल्मोड़ा के जंतु विज्ञान विभाग के सहायक प्राध्यापक एवं शोध प्रमुख डॉ. मुकेश सामंत ने शोध कार्य की पुष्टि की। जिसमें उन्होंने बताया कि इस शोध में उनके साथ राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान रायपुर के डॉ. अवनीश कुमार और शोधार्थी शोभा उप्रेती, सतीश चंद्र पांडेय और ज्योति शंकर ने कार्य किया। डॉ. सामंत का ये शोध स्विट्जरलैंड से प्रकाशित होने वाली वैज्ञानिक शोध पत्रिका स्प्रिंगर नेचर के मॉलिक्यूलर डाइवर्सिटी में प्रकाशित हुआ है। शोध के दौरान बिच्छू घास में मिलने वाले 110 यौगिकों की मॉलिक्यूलर डॉकिंग विधि से स्क्रीनिंग की गई। इस दौरान कंडाली में 23 ऐसे यौगिक मिले जो हमारे फेफड़ों में मिलने वाले एसीई-2 रिसेप्टर से आबद्ध हो सकते हैं और कोरोना वायरस के संक्रमण को रोक सकते हैं। फिलहाल इस वक्त बिच्छू घास से इन यौगिकों को निकालने का काम चल रहा है। कोरोना काल में उत्तराखंड के वैज्ञानिकों और शोधार्थियों की ये खोज एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments