34.3 C
Dehradun
Sunday, May 9, 2021
Homeदेशहाथरस गैंगरेप मामले में पुलिसकर्मियों पर दस्तावेजों की अनदेखी करने का आरोप,...

हाथरस गैंगरेप मामले में पुलिसकर्मियों पर दस्तावेजों की अनदेखी करने का आरोप, 4 आरोपियों में से एक निकला नाबालिग

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तरप्रदेश: हाथरस में दलित युवती से कथित गैंगरेप और उसकी मौत के केस की जांच कर रही CBI के हाथ एक ऐसा सबूत हाथ लगा है, जो इस केस में शुरुआत से ही सवालों में घिरी पुलिस के खिलाफ है। अलीगढ़ जेल में बंद चारों आरोपियों में से एक नाबालिग निकला है। इसका खुलासा उसके घर से बरामद हाईस्कूल की मार्कशीट से हुआ है। मार्कशीट सामने आने के बाद CBI ने घटना के बाद सस्पेंड हुए पुलिसकर्मियों से पूछताछ की है।

2018 में पास की हुई हाईस्कूल की परीक्षा की मार्कशीट पर उसकी जन्मतिथि 2 दिसंबर 2002 लिखी है। ऐसे में अभी उसकी उम्र 17 साल 10 माह है। 14 सितंबर को जब वारदात हुई तब वह 17 साल 9 महीने 12 दिन का था। इसके बावजूद उसे अन्य आरोपियों की तरह जेल भेज दिया गया। ऐसे में बड़ा सवाल उठता है कि जेल भेजने से पहले क्या उसकी मेडिकल जांच नहीं हुई थी? अब पुलिस पर दस्तावेजों को दरकिनार करने का आरोप लग रहा है।

CBI ने सोमवार को अलीगढ़ जेल में बंद चारों आरोपियों संदीप, रामू, रवि और एक नाबालिग से अलग-अलग करीब साढ़े सात घंटे पूछताछ की थी। इससे पहले CBI ने कोर्ट से परमिशन ली। CBI की टीम सुबह 11 बजकर 54 मिनट पर जेल के अंदर पहुंची और शाम को 7:30 बजे बाहर आई। इस दौरान वारदात के दिन कौन-कहां था, इसकी पूरी जानकारी ली गई। इससे पहले CBI ने सभी आरोपियों के परिवार वालों से पूछताछ की थी और आरोपी नाबालिग के घर से सबूत जुटाए गए थे। इस दौरान कुछ दस्तावेजों के अलावा एक लाल रंग लगा कपड़ा भी बरामद किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments