34.3 C
Dehradun
Tuesday, January 26, 2021
Home उत्तराखंड केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने सिलगोट गाँव का किया दौरा, साँझा किया...

केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने सिलगोट गाँव का किया दौरा, साँझा किया अनुभव

- Advertisement -
- Advertisement -

केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने आज भिंगी- पल्द्वाड़ी गांव के सिलगोट तोक का दौरा किया साथ ही उन्होंने अपना अनुभव साँझा किया।

अपना अनुभव साँझा करते हुए उन्होंने कहा-

आज भिंगी- पल्द्वाड़ी गांव के सिलगोट तोक वो जो मक्कू और हुड्डू से आने वाली पहाड़ी नदियों के संगम पर जाने का मौका मिला। पैदल दुर्गम रास्ते से बरसात में नदी के किनारे के गांव जाने तक, सभी पर दर्जन भर जोंकों का आक्रमण हो चुका था। कठिन सफर के बाद सिलगोट पंहुचते ही ऐसा लगा जैसे स्वर्ग में हों।

1952 – 1977 तक गांव के सभापति रहे पंडित भोला दत्त सेमवाल ने इस निर्जन जगह को पहाड़ के परिवार के लिए खेती- किसानी के लिए जो सुविधायें चाहिए उनसे सजाया-संवारा।

Image may contain: one or more people, people standing, plant, tree, outdoor and nature

घर, चौक, खेत, घराट हो या नहर वे बाहर से कुछ नही लाए हर समान वंही का लगाया। मेरी साथ pmgsy सिंचाई खंड के 2 अभियंता भी गए थे जो उनके द्वारा बनाई गई केवल पत्थरों की नहर, पानी की निकासी व्यवस्था जो 50 सालों बाद भी कोई रख-रखाव नही मांगती है और जिससे थोड़ा भी पानी लीक नही होता है देख कर चमत्कृत थे। जबकि सरकारी नहरों पर बनने और उसके बाद रखरखाव पर लाखों खर्च होने के बाद भी पानी नही चलता है पंडित भोला दत्त जी के जमाने में सिलगोट में 10-15 भैंस उतनी ही गायें ओर बड़े सफेद बैल होते थे।

हर तरह की खेती सिलगोट में होती थी फल होते थे, सब्जियां होती थी। सिलगोट में न केवल दूध-घी की नदियां बहती थी बल्कि ये घर राजनीतिक-सामाजिक चेतना का केंद्र था। पूर्व विधायक पंडित गंगाधर मैठाणी जी के लिए ये दूसरा घर था।भोला दत्त जी ने तब के दुर्गम गांव भिंगी- पल्द्वाड़ी में शिक्षा और स्वास्थ्य केंद्रों की स्थापना भी की।

आगे वो बताते हैं-

Image may contain: one or more people, people standing, outdoor, nature and water

फिर आया उनके पुत्रों का समय जिनमें पंडित चंद्रशेखर जी केदारनाथ मंदिर में वेदपाठी थे और उनके 2 अनुज थे ने आगे बढ़ कर 5 किलोवाट का घराट और minihydyle लगाया जो धान कूटने के साथ घर की जरूरत के लिए बिजली पैदा करता है। समय के अनुसार ओर सुविधाएं भी जोड़ी। सभी भाई नौकरी में थे लेकिन गांव, खेती-किसानी और पशुपालन नही छोड़ा। दुर्भाग्यवश चंद्रशेखर जी 2013 की केदारनाथ जल विप्लव की भेंट चढ़ गए। पर उन्होंने और उनके भाइयों ने भी अपने पिता की परंपरा को आगे बढ़ाया।

Image may contain: one or more people and people standing

अब नई पीढ़ी के युवाओं ने सिलगोट में मिनी ट्रैक्टर, थ्रैशर आदि मशीनें रखी हैं। उनकी बूढ़ी दादी, मां और नई बहू मिलकर न केवल इस इलाके में हर किस्म की खेती करती हैं बल्कि आम से लेकर माल्टा तक उगाते हैं। 2 साहीवाल गउएँ भी हैं। अच्छा पढ़- लिख कर आगे बढ़ रही इस नई पीढ़ी को भी अपने पिता और दादा जी की तरह अपने गाँव से पूरा मोह है, इसे छोड़ना नही चाहते।
एक नेपाली भी 30-35 साल से इस परिवार का सदस्य है बच्चों का चाचा है, बिना उसके इस घर की कल्पना भी नही की जा सकती।
स्वर्गीय पंडित चंद्रशेखर जी की धर्मपत्नी कुसुम बताती हैं कि, नमक और चीनी के अलावा वो कुछ नही खरीदते हैं। बल्कि लोगों को भी भरपूर देते हैं।

सेमवाल परिवार आज भी कठिनाइयों के बाबजूद भी अपने घर पर टिका है।

Image may contain: one or more people, plant, tree, outdoor and nature

सिलगोट पूरी तरह से आत्मनिर्भर गांव है और सेमवाल परिवार आज भी कठिनाइयों के बाबजूद भी अपने घर पर टिका है।
सिलगोट उत्तराखंड के लिए आदर्श मॉडल है। पड़े-लिखे, सम्पन्न और अपनी जड़ों से जुड़े परिवार का मॉडल।एक ही जरूरत है इनकी सड़क से बहुत दूर हैं दुर्गम रास्ते से जान हथेली पर रख कर आना-जाना होता है।इसी समस्या के समाधान के लिए आज मैं , प्रधान जी, श्री प्रताप सिंह रावत गुरुजी, खत्री जी, उपप्रधान जी और pmgsy के अभियंता सिलगोट गए थे।

भगवान हमें इतनी शक्ति दें कि हम सेमवाल परिवार का दुख कुछ कम कर पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments