34.3 C
Dehradun
Sunday, May 9, 2021
Homeउत्तराखंडजिस हिमालय पर पुरखे जोर से चिल्लाने को भी मना करते थे;...

जिस हिमालय पर पुरखे जोर से चिल्लाने को भी मना करते थे; वहां आज हेलिकॉप्टर गड़गड़ा रहे हैं, डायनामाइट से विस्फोट किए जा रहे हैं

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तराखंड के चमोली जिले में आई आपदा के बाद फंसी बहुत सी जिंदगियों को बचाने की मशक़्क़त जारी है। लोग अपनों के ठीक होने की दुआएं कर रहे हैं। उत्तराखंड में रोजगार के लिए बाहर गांवों से लोग बड़ी संख्या में आते हैं। जिनमें से कुछ चमोली आपदा में फंसे हुए हैं। जिनको बचाने के लिए रेस्क्यू अभियान जारी है। कही न कहीं बन रहे बांधों को भी इन आपदाओं का कारण बताया जा रहा है। 2011 में एक घटना हुई थी, जब ऋषिगंगा पर बन रहे बांध का उद्घाटन हुआ था। बांध बनाने वाली कंपनी के मालिक पंजाब से आए थे। तभी ऊपर पहाड़ से एक बड़ा पत्थर गिरा और उनकी वहीं मौत हो गई थी। ठीक उद्घाटन के दिन ही कंपनी मालिक की मौत होना एक बहुत बड़ा संकेेत था। लोग जिसे देवी का इशारा मान रहे थे कि इस बांध को यहीं रोक दिया जाए। उस हादसे के बाद ऋषिगंगा प्रोजेक्ट का काम रुक गया था और कुछ समय बाद कंपनी ठप हो गई। रैणी गांव में देवी का एक मंदिर टूटना एक बहुत बड़ी त्रासदी रही। लोगों का कहना है कि प्रकृति से ज्यादा छेड़छाड़ ही आपदाओं की वजह है। बड़े पॉवर प्रोजेक्ट आपदाओं के लिए जिम्मेदार हैं, इसके बाद भी सरकार ऐसे प्रोजेक्ट को बढ़ावा दे रही है। इसके बाद ऐसी आपदाएं हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments