34.3 C
Dehradun
Wednesday, April 21, 2021
HomeAbout Uttarakhandउत्तराखंड की जलवायु में बहुत विभिन्नता पाई जाती है, आइये जाने इसके...

उत्तराखंड की जलवायु में बहुत विभिन्नता पाई जाती है, आइये जाने इसके बारे में

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तराखंड में धरातलीय संरचना के अनुरूप जलवायु की बहुत विभिन्नता पाई जाती है। दिन के समय गर्मी पड़ती है, किंतु रात को तापमान हिमांक से नीचे पहुंच जाता है। ग्रीष्म काल में घाटियों में 900 मीटर से नीचे की जलवायु उष्णकटिबंध तथा 4250 मीटर से ऊंचे स्थानों पर कड़ी ठंड पड़ती है व शिखर हिमाछादित रहती है। शीतकाल में घाटियों में सघन कोहरा रहता है। तेज हवाओं, अत्यधिक ठंड और हिमावरण के कारण ऊँचे भागों पर मरुभूमि मिलते हैं। मानसून जून से मध्य जून तक सक्रिय रहता है। अधिकतम वर्षा 1200 से 2100 मीटर ऊंचे पवनोन्मुख ढालों पर ओसतन 35 से 50 मीटर तथा विमुख ढालो पर 20 से 25 सेंटीमीटर होती है। जाड़ों में पश्चिम अवदाब के कारण हिमपात होता है।

उत्तराखंड की जलवायु:

किसी भी स्थान की जलवायु उस स्थान की भौगोलिक स्थिति तापमान , वर्षा , पर्वत श्रेणियों की दिशा , ढाल , समुद्र से ऊंचाई आदि कारकों पर निर्भर करती है | इन कारकों से अलग-अलग क्षेत्रों में जलवायु में विषमता देखने को मिलती है | उत्तराखंड की जलवायु का अध्ययन करने के लिए तीन रूपों को आधार बनाया गया | जो निम्न प्रकार से है –

1 – ग्रीष्म / रूढी / खर्साऊ – सूर्य के उत्तरायण होने पर कर्क रेखा पर विषुवतीय रेखाओं में दशाओं का सृजन होने लगता है | जिस कारण उत्तराखंड में उष्णकटिबंधीय जलवायु दशाएं पाई जाती हैं | तापमान अधिक तथा दाब कम होता है | शिवालिक श्रेणी का तापमान 30 से 38 डिग्री सेंटीग्रेड होता है | जबकि इसके दक्षिणी मैदानी भागों का तापमान लगभग 43 से 44 डिग्री सेंटीग्रेड तक पहुंच जाता है | किंतु हिमालयी चोटियां ग्रीष्म में भी बर्फ से आच्छादित रहती है |

2 – वर्षा ऋतु- 15 जून के आसपास मानसून उत्तराखंड में पहुंचता है | तथा इस समय उत्तराखंड में अप्रैल में 150 से 200 सेंटीमीटर तक वर्षा होती है |

वर्षा के दृष्टिकोण से इसे चार भागों में बांटा जाता है |

1 – सबसे कम वर्षा – सबसे कम वर्षा 40 से 80 सेंटीमीटर तक होती है जो की वृहद हिमालय में होती है |

2 – कम वर्षा – यह वर्षा 80 से 120 सेंटीमीटर तक मध्य हिमालय में होती है |

3 – अधिक वर्षा – यह वर्षा 120 से 200 सेंटीमीटर तक दून , द्वार तथा नदी घाटियों में होती है

4 – अत्यधिक वर्षा – यह 200 सेंटीमीटर से अधिक होती है। यह वर्षा शिवालिक , तराई , भाबर में होती है ।

3 –शीत ऋतु – (अक्टूबर से मार्च ) के मध्य मध्य – इसे ह्यूंद भी कहा जाता है | उत्तराखंड में जनवरी में तापमान अपने निम्नतम स्तर तक पहुंच जाता है | इस समय राज्य में 1500 मीटर से ऊंची सभी स्थानों पर बर्फबारी या हिमपात शुरू हो जाता है किंतु के जल्दी पिघल भी जाता है | सर्दियों में उत्तर भारत के कुछ अन्य राज्यों के समान उत्तराखंड के पौड़ी , टिहरी , अल्मोड़ा , देहरादून आदि जिलों में हल्की-फुल्की बारिश होती है | यह वर्षा पश्चिमी विक्षोभ जो की भूमध्य सागर से नमी ग्रहण करते हैं | एवं ईरान अफगानिस्तान से होते हुए इस क्षेत्र में प्रवेश करते हैं | और लगभग 12 से 12.5 सेंटीमीटर वर्षा करते हैं | इस समय उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में तापमान अधिक गिर जाता है जबकि मैदानी क्षेत्र कोहरे से ग्रस्त रहते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments