34.3 C
Dehradun
Sunday, October 25, 2020
Home देश किरण नेगी गैंगरेप मामला: नौ साल से कोर्ट कचहरी का चक्कर लगा...

किरण नेगी गैंगरेप मामला: नौ साल से कोर्ट कचहरी का चक्कर लगा रहे परिवार को अभी भी इंसाफ का इंतजार, मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचते ही लटक गया

- Advertisement -
- Advertisement -

किरण नेगी की मौत पर आक्रोश नहीं फूटा था। वो मीडिया की सुर्खियां नहीं बनीं थी। उसके चले जाने के बाद बहसें नहीं हुई थीं, कानून नहीं बदले गए थे। कोई नेता उसके घर नहीं गया था। उसके पिता जब बेटी के लिए इंसाफ मांगने तत्कालीन मुख्यमंत्री के पास गए थे तो ये कहकर टरका दिया गया था कि ‘ऐसी घटनाएं तो होती ही रहती हैं।’

इस घटना को नौ साल होने को आए हैं, लेकिन परिवार अभी भी इंसाफ का इंतजार कर रहा है। किरण नेगी का गैंगरेप करने वाले तीनों दरिंदों को हाई कोर्ट ने साल 2014 में ही फांसी की सजा सुना दी थी। लेकिन, फिर ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और लटक गया। परिवार को तो अब ये भी नहीं पता कि अगली तारीख कब है। वो अपने वकील का नाम तक सही से नहीं जानते। बस इस उम्मीद में रहते हैं कि उनके जीते-जी दरिंदों को फांसी हो जाए।

उस दिन को याद करके किरण के पिता आज भी फफक पड़ते हैं। वो कहते हैं, मैं उस वक्त की सीएम शीला दीक्षित के पास गया था। कई लोग मेरे साथ थे। जब हमने उनसे घटना के बारे में बताया तो उन्होंने कहा ऐसे अपराध तो होते ही रहते हैं। नेगी बताते हैं कि वहां अधिकारियों ने उन्हें एक लाख रुपए का चैक दिया। इसके अलावा किसी भी तरह की कोई मदद या मुआवजा उन्हें नहीं दिया गया।

वो 9 फरवरी 2012 की शाम थी। किरण नेगी रोजाना की तरह काम से घर लौट रही थी। सूरज डूब चुका था, कुछ धुंधली रोशनी रह गई थी। बस से उतरते ही किरण के कदम तेज हो गए थे, बीस मिनट का ये पैदल रास्ता उसे जल्दी तय करना था। घर पहुंचते ही वो मां से कहती थी, मां मैं आ गई।

लेकिन, उस दिन दरिंदों की उस पर नजर थी। एक लाल रंग की इंडिका कार में उसे अगवा कर लिया गया। हरियाणा ले जाकर तीन दिन तक उसका रेप किया गया। फिर एक सरसों के खेत में उसे मरने के लिए छोड़ दिया गया। पुलिस रिकॉर्ड बताते हैं वो दरिंदों से अपनी जान की भीख मांगती रही, लेकिन हवस मिटाने के बाद भी उनका दिल नहीं पसीजा और उन्होंने उसे ऐसी दर्दनाक मौत दी कि लिखते हुए हाथ कांपने लगते हैं। उसकी आंखों में तेजाब डाल दिया गया था। उसके नाजुक अंगों से शराब की बोतल मिली थी। पाना गरम करके उसके शरीर को दाग दिया गया था। अगर ये सब ना भी हुआ होता तो क्या उसकी मौत का गम परिवार के लिए कम होता ?

किरण के पिता कहते हैं, ‘आठ साल कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाते लगाते बीत गए। पांव में छाले पड़ जाते हैं। हम न्याय के लिए ही दौड़ रहे हैं, लेकिन न्याय मिल नहीं रहा है। हमारी कानून व्यवस्था अपराधियों को पनाह देती है और पीड़ितों से चक्कर कटवाती है। अगर हमारी बेटी हाथरस की होती तो न्याय मिलता, हमारी बेटी देश की निर्भया होती तो न्याय मिलता। ये निर्भया से पहले का केस है, निर्भया के मुलजिमों को फांसी हो गई, हम अभी भी लाइन में ही लगे हैं। हमें नहीं पता कि कब फांसी होगी।’

कुंवर नेगी का कहना है कि जब तक रेप के मामलों में त्वरित न्याय नहीं होगा कुछ नहीं बदलेगा। वो कहते हैं कि जो डर बेटियां महसूस करती हैं वो डर अपराधियों में होना चाहिए। नेगी कहते हैं, “मेरा मानना है जब तक अपराधियों को फांसी नहीं होगी, रेप नहीं रुकेंगे। इन जैसे अपराधियों को तुरंत फांसी देनी चाहिए। जिन मामलों में पुख्ता सबूत होता है उनमें तीन से छह महीनों के भीतर इन दरिंदों को फांसी होनी चाहिए। ऐसा होगा तब ही ये अपराध रुकेंगे। ये लोग सरकारी राशन खा रहे हैं, इन्हें तिहाड़ में भर रखा है। इन्हें सरकारी खर्चे पर जिंदा रखने की क्या जरूरत है?”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वीकेंड से पहले ही शुक्रवार को दिनभर पर्यटकों ने नैनी झील में नौका विहार का लिया आनंद

नैनीताल नगर में वीकेंड से पहले ही पर्यटकों की शुक्रवार को दिनभर चहल-पहल रही। इसी तहर शनिवार को भी यहां पर्यटकों की चहल-पहल बरक़रार...

आज अष्टमी व नवमी के अवसर पर मंदिरों और घरों में किया जा रहा कन्या पूजन

शारदीय नवरात्र की अष्टमी व नवमी आज बड़े धूम धाम से मनाई जा रही है। इस दौरान सुबह से ही घरों और मंदिरों में...

दशहरा 2020 : इस बार देहरादून में सादगी से मनाया जाएगा दशहरा 10 फीट के रावण होगा दहन

देहरादून के परेड ग्राउंड में होने वाले ऐतिहासिक रावण दहन कार्यक्रम इस बार रेसकोर्स स्थित बन्नू स्कूल में होगा। इस बार बीच रावण की...

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना डाली दो किमी सड़क, पढ़िए

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने बिना सरकारी मदद के अपने गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए दो किलोमीटर सड़क खोद डाली। चमोली जिले...

Recent Comments