34.3 C
Dehradun
Tuesday, May 18, 2021
Homeदेशकारगिल विजय दिवस: राष्ट्रपति जी ने अपने खर्चे में कटौती कर आर्मी...

कारगिल विजय दिवस: राष्ट्रपति जी ने अपने खर्चे में कटौती कर आर्मी हॉस्पिटल को दिया 20 लाख रुपए का दान

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्लीः राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के सामने एक ऐसी मिसाल पेश की है जो देखने को नही मिलता है उन्होंने अपने और राष्ट्रपति भवन के अन्य खर्चों में कटौती करके जो पैसे बचाए, उन्हें आर्मी हॉस्पिटल को दान किया है ताकि जरूरत पड़ने पर कोरोना महामारी से लड़ाई में डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ को मदद मिल सके।
कारगिल विजय दिवस पर राष्ट्रपति जी ने दिया दान
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज कारगिल विजय दिवस के मौके पर दिल्ली स्थित आर्मी रिसर्च एन्ड रेफ़रल हॉस्पिटल को 20 लाख रुपए का चेक प्रदान किया उन्होंने यह दान कोरोना महामारी से लड़ रहे योद्धाओं की मदद के लिए मेडिकल उपकरण को खरीदने के लिए दिया है. इस पैसे से आर्मी हॉस्पिटल के लिए PAPR ( Powered Air Purifier Respirator ) ख़रीदा जाएगा. इस उपकरण का इस्तेमाल ऑपरेशन थियेटर और अन्य जगहों पर साफ़ हवा दिए जाने के लिए हो सकेगा ताकि कोरोना के ख़िलाफ़ मेडिकल योद्धाओं को संक्रमण से बचाया जा सके।
खर्चे में से बचा कर जमा किए पैसे
इस दान की सबसे बड़ी विशेषता ये है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने और राष्ट्रपति भवन के अन्य ख़र्चों में कटौती कर ये पैसे इकट्ठा किए हैं।कोरोना महामारी फ़ैलने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 14 मई को अपने और राष्ट्रपति भवन के ख़र्चे में 20 फ़ीसदी तक की कटौती के लिए क़दम उठाने का ऐलान किया था। इनमें एक क़दम ये था कि गणतंत्र दिवस और अन्य समारोहों में राष्ट्रपति द्वारा उपयोग के लिए लिमोजिन कार ख़रीदने की योजना को रोक कर के यह फैसला लिया गया था।
हर महीने एक साल तक दान करेंगे सैलरी में 30 फ़ीसदी हिस्सा।इसके अलावा समारोहों में खाने और मेहमानों पर ख़र्चे और साज सज्जा में भी कटौती करने का फ़ैसला किया गया इतना ही नहीं, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मार्च की अपनी सैलरी पीएम केयर्स फंड में दान करने और अगले एक साल तक हर महीने अपनी सैलरी में 30 फ़ीसदी की कटौती का भी फ़ैसला किया था।
अब कोरोना योद्धाओं का बढ़ेगा उत्साह: राष्ट्रपति भवन ने एक बयान जारी कर कहा है कि इस क़दम से आर्मी हॉस्पिटल के फ्रंटलाइन कोरोना योद्धाओं का मनोबल बढ़ेगा। राष्ट्रपति देश की तीनों सेनाओं के सुप्रीम कमांडर होते हैं बयान में उम्मीद जताई गई है कि राष्ट्रपति के इस क़दम से अन्य सरकारी संस्थाओं को अपने ख़र्चे में कटौती कर कोरोना महामारी से लड़ाई में लगे योद्धाओं को सहयोग और मदद करने की प्रेरणा मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments