34.3 C
Dehradun
Friday, October 23, 2020
Home देश चीन से तनाव के बीच बढ़ी भारतीय वायुसेना की ताकत, बोइंग ने...

चीन से तनाव के बीच बढ़ी भारतीय वायुसेना की ताकत, बोइंग ने भारत को सौंपे 22 अपाचे और 15 चिनूक हेलिकॉप्टर

- Advertisement -
- Advertisement -

अमेरिकी एविएशन कंपनी बोइंग ने इंडियन एयरफोर्स को अपाचे और चिनूक मिलिट्री हेलिकॉप्टरों की डिलीवरी पूरी कर दी है। बोइंग के साथ भारत ने 22 अपाचे हेलिकॉप्टर और 15 चिनूक हेलिकॉप्टर खरीदने का सौदा किया था। बोइंग ने शुक्रवार को बताया कि 5 चिनूक की आखिरी खेप मार्च की शुरुआत में और 5 अपाचे हेलिकॉप्टर की आखिरी खेप जून के अखिरी हफ्ते में हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पहुंचाई गई।

बोइंग डिफेंस इंडिया के मैनेजिंग डाइरेक्टर सुरेंद्र आहुजा ने कहा- मिलिट्री हेलिकॉप्टरों की इस डिलीवरी के साथ, हम पार्टनरशिप को आगे भी बनाए रखेंगे और भारतीय रक्षा बलों की क्षमताओं को पूरा करने के लिए पूरी तरह से कमिटेड होकर काम करेंगे।

17 देशों के पास है अपाचे का एडवांस वैरिएंट
भारत ने अपाचे का सबसे एडवांस वैरिएंट एएच-64ई खरीदा है। यह अभी तक 17 देशों के पास ही है। एच-64ई अपाचे में लेटेस्ट कम्युनिकेशन सिस्टम, नेविगेशन, सेंसर और वीपन सिस्टम से लैस है। इसमें ऐसा सिस्टम लगा है, जिसके जरिए दिन, रात और सभी तरह के मौसम में टार्गेट के बारे में आसानी से जानकारी मिलती है।

इंडियन एयरफोर्स ने चिनूक का लेटेस्ट वर्जन सीएच-47एफ (आई) खरीदा है। दुनिया भर में बीस देशों की एयरफोर्स में या तो चिनूक हेलिकॉप्टर शामिल है या उसकी खरीद की जा रही है। बोइंग ने बयान में कहा कि चिनूक 50 सालों से दुनिया का सबसे भरोसेमंद हैवी-लिफ्ट हेलिकॉप्टर है। यह गर्म जलवायु, ऊंचाई, और तेज हवाओं में भी आसानी से उड़ सकता है।

सितंबर 2015 में हुआ था सौदा
रक्षा मंत्रालय ने सितंबर 2015 में बोइंग के साथ 22 एएच-64ई अपाचे और 15 सीएच -47 एफ (आई) चिनूक हेलीकॉप्टरों के प्रोडक्शन और ट्रेनिंग के लिए सौदा किया था। हैदराबाद में बोइंग कंपनी टाटा के साथ जॉइंट वेंचर (टाटा बोईंग एयरोस्पेस लिमिटेड (टीबीएएल) के जरिए अपाचे के एयरोस्ट्रक्चर बनाती है। मौजूदा समय में बोइंग भारत में “मेक इन इंडिया” और “स्किल इंडिया” मुहिम के तहत 200 से अधिक पार्टनरों के साथ मिलकर काम कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना डाली दो किमी सड़क, पढ़िए

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने बिना सरकारी मदद के अपने गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए दो किलोमीटर सड़क खोद डाली। चमोली जिले...

दुखद खबर: ड्यूटी के दौरान हुई टिहरी गढ़वाल के ITBP जवान की मौत, घर वालो का रो-रोकर बुरा हाल

टिहरी गढ़वाल के चंबा के स्यूंटा गांव निवासी आइटीबीपी के जवान विजय सिंह पुंडीर की ड्यूटी के दौरान मौत हो गई। बताया जा रहा...

चारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे धामों तक पहुंचाएगी रेल, चारधाम यात्रा होगी और अधिक सुगम ! जानिए

उत्तराखंड में सबसे महत्वकांक्षी रेल परियोजना है चारधाम रेल परियोजना। चारधाम रेल परियोजना का काम जोरों-शोरों से चल रहा है। ऋषिकेश- कर्णप्रयाग रेल परियोजना...

उत्तराखंड: छात्रों से पहले शिक्षकों का बढ़ाया जाएगा अंग्रेजी ज्ञान, जानिए क्या है प्राइमरी स्तर पर अंग्रेजी मजबूत बनाने के लिए शिक्षा विभाग का...

प्राइमरी स्तर पर छात्रों का अंग्रेजी ज्ञान मजबूत बनाने के लिए शिक्षा विभाग एक शानदार काम करने वाला है। स्कूली छात्रों की अंग्रेजी सुधारने...

Recent Comments