34.3 C
Dehradun
Thursday, October 22, 2020
Home उत्तराखंड देनी है परीक्षाएं तो साथ रखनी होगी कोविड नेगेटिव रिपोर्ट, जानिए क्या...

देनी है परीक्षाएं तो साथ रखनी होगी कोविड नेगेटिव रिपोर्ट, जानिए क्या है परीक्षा केंद्र की दिशा निर्देश

- Advertisement -
- Advertisement -

श्रीदेव सुमन विवि के सभी संबद्ध कॉलेजों में 14 सितंबर से परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। इसके तहत एक ओर जहां बाहरी राज्यों से आने वाले छात्रों को कोविड नेगेटिव रिपोर्ट साथ लानी होगी तो दूसरी ओर परीक्षा में तैनात रहने वाले शिक्षकों को भी मेडिकल फिटनेस प्रमाण पत्र देना होगा। बता दे की कॉलेजों में बड़ी संख्या ऐसे छात्र-छात्राओं की है जो कि बाहरी राज्यों से आते हैं। इन छात्रों के लिए अलग से कोविड सर्टिफिकेट लाने की अनिवार्यता की गई है। हालांकि कॉलेज भी इसके पक्ष में हैं कि छात्रों को पूरी सुरक्षा के साथ परीक्षा केंद्र तक लाया जाए।

परीक्षा केंद्र की दिशा निर्देश

परीक्षा के लिए गढ़वाल मंडल में 180 केंद्र बनाए गए हैं। जिनमे किसी भी परीक्षा केंद्र में किसी भी सूरत में बिना मास्क प्रवेश नहीं दिया जाएगा। अगर कोई छात्र किसी कंटेनमेंट जोन से आ रहा है तो उसका एडमिट कार्ड या कॉलेज का आईकार्ड उसका पास होगा। इस आधार पर वह परीक्षा केंद्र तक जा सकता है। वही अन्य राज्यों से आने वाले छात्रों को कोविड-19 रिपोर्ट अपने साथ लानी होगी।

  • सभी परीक्षा कक्ष, एंट्री गेट से लेकर वॉशरूम तक पूरा सैनिटाइजेशन की व्यवस्था करनी होगी।
    सभी दरवाजों के हैंडल, रेलिंग, लिफ्ट बटन को भी सैनिटाइज करना होगा।
    हर पाली की परीक्षा के बाद छात्रों की टेबल और कुर्सी को सैनिटाइज करना अनिवार्य होगा।
    हर परीक्षा केंद्र पर ऐसी व्यवस्था करनी होगी कि हर आने वाला छात्र साबुन से हाथ धो सके।
    परीक्षा कार्य में लगे पूरे स्टाफ को अपने स्वास्थ्य को लेकर सेल्फ डिक्लरेशन देना होगा।
    पूरे स्टाफ की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य तौर पर करनी होगी।
  • हर परीक्षा केंद्र पर सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग आदि से जुड़ी पूरी जानकारी के प्रतीक चिन्ह वाले पोस्टर आदि लगाने होंगे।
    परीक्षा कक्ष में एंट्री के पहले हर छात्र व शिक्षक व अन्य स्टाफ को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना होगा।
    किसी भी परीक्षा केंद्र पर छात्रों की भीड़ इकट्ठा नहीं होने दी जाएगी। अगर हो सके तो अलग-अलग गेट से प्रवेश और निकासी होगी।
  • अगर किसी छात्र को बुखार जैसी कोई भी शिकायत लगती है तो उसके लिए अलग से बनाए गए कक्ष में परीक्षा की व्यवस्था करनी होगी।
    परीक्षा केंद्र के भीतर काम करने वाले हर स्टाफ के आधार कार्ड से लेकर पूरी वेरिफिकेशन डिटेल उपलब्ध होनी अनिवार्य है।
    प्रत्येक कॉलेज या इंस्टीट्यूट को एक हेल्पलाइन या वाट्स एप नंबर जारी करना होगा ताकि छात्र किसी भी तरह की जानकारी इस नंबर से प्राप्त कर सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

उत्तराखंड: छात्रों से पहले शिक्षकों का बढ़ाया जाएगा अंग्रेजी ज्ञान, जानिए क्या है प्राइमरी स्तर पर अंग्रेजी मजबूत बनाने के लिए शिक्षा विभाग का...

प्राइमरी स्तर पर छात्रों का अंग्रेजी ज्ञान मजबूत बनाने के लिए शिक्षा विभाग एक शानदार काम करने वाला है। स्कूली छात्रों की अंग्रेजी सुधारने...

देहरादून: इंसानियत हुई शर्मसार ! सड़क किनारे मिला मानव भ्रूण, पुलिस मामले की जांच में जुटी

देहरादून में सड़क किनारे मानव भ्रूण मिला है। घटना शहर कोतवाली क्षेत्र की है, जहां शिवाजी नगर मोहल्ला में सड़क किनारे भ्रूण मिलने से...

डबल एमए करने वाली हंसी प्रहरी की भिक्षा मांगने वाली खबर मिलते ही प्रदेश सरकार मदद के लिए आई आगे, हंसी से मिलने पहुंचीं...

अल्मोड़ा की हंसी प्रहरी के हरिद्वार में भिक्षा मांगने की खबर मिलते ही प्रदेश सरकार उनकी मदद के लिए आगे आई। हंसी प्रहरी ने...

हाथरस गैंगरेप मामले में पुलिसकर्मियों पर दस्तावेजों की अनदेखी करने का आरोप, 4 आरोपियों में से एक निकला नाबालिग

उत्तरप्रदेश: हाथरस में दलित युवती से कथित गैंगरेप और उसकी मौत के केस की जांच कर रही CBI के हाथ एक ऐसा सबूत हाथ...

Recent Comments