34.3 C
Dehradun
Friday, October 23, 2020
Home देश जनरल बिपिन रावत ने बताया यदि चीन के साथ बातचीत नाकाम रही...

जनरल बिपिन रावत ने बताया यदि चीन के साथ बातचीत नाकाम रही तो सैन्‍य विकल्‍प ही रास्‍ता

- Advertisement -
- Advertisement -

चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat)ने कहा है कि लद्दाख (Ladakh)में चीन के साथ भारत के सीमा गतिरोध का अगर सैन्‍य और राजनीतिक स्‍तर की बातचीत से मामले का वांछित हल नहीं निकलता तो भारत के पास सैन्‍य विकल्‍प है. गौरतलब है कि लद्दाख को लेकर गतिरोध, जहां इस वर्ष की शुरुआत में चीनी आर्मी ने कैंप स्‍थापित कर लिए थे, का दोनों देशों के बीच सैन्‍य स्‍तर की पांच दौर की बातचीत के बाद भी हल नहीं निकल सका है.

न्‍यूज एजेंसी ANI ने जनरल रावत के हवाले से कहा, “लद्दाख में चीनी सेना की ओर से किए अतिक्रमण से निपटने के लिए सैन्‍य विकल्‍प मौजूद है लेकिन सैन्‍य और राजनयिक स्‍तर की बातचीन के नाकाम होने की स्थिति में ही इसका इस्‍तेमाल किया जाएगा. हालांकि उन्‍होंने चीनी सेना को पीछे ‘धकेलने’ के लिए भारत की ओर से इस्‍तेमाल किए जाने वाले सैन्‍य विकल्‍प के बारे में विस्‍तार से चर्चा करने से इनकार कर दिया.

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच अप्रैल-मई में शुरू हुए सीमा गतिरोध (Stand-off between India and China)की परिणति बाद में हिंसक झड़प के रूप में हुई थी. 15 जून को गलवान घाटी पर दोनों देशों के सैनिकों की हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों को जान गंवानी पड़ी थी. झड़प में चीन को भी काफी नुकसान हुआ था. खबरों के मुता‍बिक संघर्ष में चीन के करीब 45 सैनिकों को या तो जान गंवानी पड़ी थी या वे गंभीर रूप से घायल हुए थे. करीब पांच दशक में LAC के नजदीक दोनों देशों के सैनिकों के बीच यह सबसे खराब संघर्ष रहा. बाद में दोनों देशों सैनिकों को पीछे हटाने पर सहमत हो गए थे लेकिन सैन्‍य बलों के पीछे हटने की प्रक्रिया अभी तक पूरी नहीं हो सकी है. सैटेलाइट के चित्र दिखाते हैं कि चीनी सैनिकों ने फिंगर 5 और फिंगर 8 के साथ ढलान वाले स्‍थानों पर कब्‍जा बरकरार रखा है.

भारत का मानना है कि LAC फिंगर 8 पर स्थित है जो क्षेत्र के एक ऐतिहासिक स्‍थल फोर्ट खुरनाक के नजदीक है. दूसरी ओर, चीन मानता है कि LAC फिंगर 4 पर स्थित है और उसने अप्रैल के बाद से भारतीय सैनिकों को इस प्‍वाइंट पर गश्त करने से रोक दिया है. इस स्‍थान पर हुई हिंसक झड़प में झड़पों के बाद दर्जनों भारतीय सैनिक गंभीर रूप से घायल हो गए थे.भारत चाहता है कि फिंगर क्षेत्र से चीनी सैनिक पीछे हट जाएं. सेना के सूत्रों के अनुसार, दोनों मुल्‍कों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्‍तर की आखिरी बैठक 2 अगस्‍त को आयोजित हुई थी बातचीत का प्रमुख मुद्दा टकराव वालों स्‍थानों से सैन्‍य बलों और हथियारों को एक निर्धारित समय में पूरी तरह से हटाने के फ्रेमवर्क को अंतिम रूप देना था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना डाली दो किमी सड़क, पढ़िए

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने बिना सरकारी मदद के अपने गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए दो किलोमीटर सड़क खोद डाली। चमोली जिले...

दुखद खबर: ड्यूटी के दौरान हुई टिहरी गढ़वाल के ITBP जवान की मौत, घर वालो का रो-रोकर बुरा हाल

टिहरी गढ़वाल के चंबा के स्यूंटा गांव निवासी आइटीबीपी के जवान विजय सिंह पुंडीर की ड्यूटी के दौरान मौत हो गई। बताया जा रहा...

चारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे धामों तक पहुंचाएगी रेल, चारधाम यात्रा होगी और अधिक सुगम ! जानिए

उत्तराखंड में सबसे महत्वकांक्षी रेल परियोजना है चारधाम रेल परियोजना। चारधाम रेल परियोजना का काम जोरों-शोरों से चल रहा है। ऋषिकेश- कर्णप्रयाग रेल परियोजना...

उत्तराखंड: छात्रों से पहले शिक्षकों का बढ़ाया जाएगा अंग्रेजी ज्ञान, जानिए क्या है प्राइमरी स्तर पर अंग्रेजी मजबूत बनाने के लिए शिक्षा विभाग का...

प्राइमरी स्तर पर छात्रों का अंग्रेजी ज्ञान मजबूत बनाने के लिए शिक्षा विभाग एक शानदार काम करने वाला है। स्कूली छात्रों की अंग्रेजी सुधारने...

Recent Comments