34.3 C
Dehradun
Saturday, November 28, 2020
Home उत्तराखंड चारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे...

चारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे धामों तक पहुंचाएगी रेल, चारधाम यात्रा होगी और अधिक सुगम ! जानिए

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तराखंड में सबसे महत्वकांक्षी रेल परियोजना है चारधाम रेल परियोजना। चारधाम रेल परियोजना का काम जोरों-शोरों से चल रहा है। ऋषिकेश- कर्णप्रयाग रेल परियोजना पर काफी तेजी से काम चल रहा है। गंगोत्री एवं यमुनोत्री की बात करें तो वहां तक भी रेल लाइन बिछाने के लिए डिजिटल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार की जा चुकी है। वहीं इस योजना को और अधिक विस्तार दिए जाने के ऊपर काफी सोच-विचार चल रहा है। इस परियोजना के तहत बनाए गए अबतक के प्लान के मुताबिक रेल श्रद्धालुओं को चार धाम के बीच रास्ते मे छोड़ने वाली है। मगर अब इस योजना में थोड़े मोडिफिकेशन करके श्रद्धालुओं को केवल अधूरे रास्ते में ना छोड़ कर सीधे धामों तक पहुंचाने की योजना पर भी काफी विचार चल रहा है।

रेल विकास निगम के परियोजना प्रबंधक ओमप्रकाश मालगुडी ने बताया अब तक डिसाइड हुए प्लान के मुताबिक चार धाम परियोजना में केदारनाथ से सोनप्रयाग, गंगोत्री से मनेरी, यमुनोत्री से बड़कोट और बद्रीनाथ से माणा तक रेल पहुंचाए जाने का निर्णय लिया गया है। मगर पिछले कुछ दिनों से रेलवे बोर्ड और आरबीएनएल की संयुक्त बैठक में सीधे चार धामों तक की रेल पहुंचाने पर विचार विमर्श किया जा रहा है। इसके तहत जहां तक प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है उससे भी आगे केबल कार और रैक रेल पहुंचाने के विचार के ऊपर विमर्श किया जा रहा है।

ओम प्रकाश मालगुडी के अनुसार भारत में इससे पहले भी माउंटेन रेल या रेल रैक का सफल संचालन किया जा चुका है और यात्री इसका आनंद उठा रहे हैं। उन्होंने बताया कि तमिलनाडु के नीलगिरी में माउंटेन रेल का सफल संचालन किया जा रहा है। वर्तमान में नीलगिरी माउंटेन रेलवे तमिलनाडु में कुन्नूर से ऊटी के बीच में चलती है। उत्तराखंड में भी अगर चार धाम तक माउंटेन रेल या रेल रैक के संचालन को हरी झंडी मिलती है तो इससे न केवल केदारनाथ यात्रा सुगम हो जाएगी बल्कि यह विकास के लिहाज से भी बड़ी उपलब्धि साबित होगी।

हालांकि अभी इस पर मुहर नहीं लग पाई है। मगर इस विचार को भविष्य में कभी धरातल पर उतारा जाएगा और यह मुमकिन हो पाएगा तो चार धाम जाने वाले यात्री सीधा धाम तक ही रेल की यात्रा कर सकेंगे और उनको रास्ते के बीच में नहीं उतरना पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

जानिए उत्तराखंड के प्रागैतिहासिक काल की विशेषताएं

उत्तराखण्ड के विभिन्न स्थलों से प्राप्त होने वाले पाषाणोपकरण, गुफा, शैल-चित्र, कंकाल मृदभाण्ड तथा धातु-उपकरण प्रागैतिहासिक काल में मानव निवास की पुष्टि करते हैं।...

गढ़वाल राइफल का सपूत बॉर्डर पर शहीद, पाकिस्तानी गोलीबारी में हुए थे घायल

पाकिस्तान सेना ने एक बार फिर जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास पुंछ जिले में संघर्ष विराम का उल्लघंन करते हुए पाकिस्तानी गोलीबारी में...

उत्तराखंड में होने वाले प्रमुख मेले, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

गढ़वाल- कुमाऊँ की संस्कृति यहाँ के मेलों में समाहित है।उत्तराखंड में साल भर अलग-अलग उत्सव और मेले का आयोजन होता रहता है। रंगीले कुमाऊँ के मेलों...

उत्तराखंड का जायका: उत्तराखंड का प्रसिद्ध व्यंजन गडेरी बनाने की रेसिपी

उत्तराखंड का जायका दुनियाभर में मशहूर है। उत्तराखंड के पहाड़ी व्यंजन का हर कोई दीवानी है। आज हम आपको उत्तराखंड की एक खास डिश...

Recent Comments