34.3 C
Dehradun
Sunday, May 9, 2021
Homeउत्तराखंडचारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे...

चारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे धामों तक पहुंचाएगी रेल, चारधाम यात्रा होगी और अधिक सुगम ! जानिए

- Advertisement -
- Advertisement -

उत्तराखंड में सबसे महत्वकांक्षी रेल परियोजना है चारधाम रेल परियोजना। चारधाम रेल परियोजना का काम जोरों-शोरों से चल रहा है। ऋषिकेश- कर्णप्रयाग रेल परियोजना पर काफी तेजी से काम चल रहा है। गंगोत्री एवं यमुनोत्री की बात करें तो वहां तक भी रेल लाइन बिछाने के लिए डिजिटल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार की जा चुकी है। वहीं इस योजना को और अधिक विस्तार दिए जाने के ऊपर काफी सोच-विचार चल रहा है। इस परियोजना के तहत बनाए गए अबतक के प्लान के मुताबिक रेल श्रद्धालुओं को चार धाम के बीच रास्ते मे छोड़ने वाली है। मगर अब इस योजना में थोड़े मोडिफिकेशन करके श्रद्धालुओं को केवल अधूरे रास्ते में ना छोड़ कर सीधे धामों तक पहुंचाने की योजना पर भी काफी विचार चल रहा है।

रेल विकास निगम के परियोजना प्रबंधक ओमप्रकाश मालगुडी ने बताया अब तक डिसाइड हुए प्लान के मुताबिक चार धाम परियोजना में केदारनाथ से सोनप्रयाग, गंगोत्री से मनेरी, यमुनोत्री से बड़कोट और बद्रीनाथ से माणा तक रेल पहुंचाए जाने का निर्णय लिया गया है। मगर पिछले कुछ दिनों से रेलवे बोर्ड और आरबीएनएल की संयुक्त बैठक में सीधे चार धामों तक की रेल पहुंचाने पर विचार विमर्श किया जा रहा है। इसके तहत जहां तक प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है उससे भी आगे केबल कार और रैक रेल पहुंचाने के विचार के ऊपर विमर्श किया जा रहा है।

ओम प्रकाश मालगुडी के अनुसार भारत में इससे पहले भी माउंटेन रेल या रेल रैक का सफल संचालन किया जा चुका है और यात्री इसका आनंद उठा रहे हैं। उन्होंने बताया कि तमिलनाडु के नीलगिरी में माउंटेन रेल का सफल संचालन किया जा रहा है। वर्तमान में नीलगिरी माउंटेन रेलवे तमिलनाडु में कुन्नूर से ऊटी के बीच में चलती है। उत्तराखंड में भी अगर चार धाम तक माउंटेन रेल या रेल रैक के संचालन को हरी झंडी मिलती है तो इससे न केवल केदारनाथ यात्रा सुगम हो जाएगी बल्कि यह विकास के लिहाज से भी बड़ी उपलब्धि साबित होगी।

हालांकि अभी इस पर मुहर नहीं लग पाई है। मगर इस विचार को भविष्य में कभी धरातल पर उतारा जाएगा और यह मुमकिन हो पाएगा तो चार धाम जाने वाले यात्री सीधा धाम तक ही रेल की यात्रा कर सकेंगे और उनको रास्ते के बीच में नहीं उतरना पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments