34.3 C
Dehradun
Sunday, October 25, 2020
Home देश जेसीबी ड्राइवर की जुबानी विकास दुबे की छत पर बैठे थे असलहाधारी,...

जेसीबी ड्राइवर की जुबानी विकास दुबे की छत पर बैठे थे असलहाधारी, फायरिंग के बाद गैंगस्टर के ‘गनकट’ कहते ही फरार हुए थे बदमाश

- Advertisement -
- Advertisement -

कानपुर पुलिस ने बिकरु गांव में दो जुलाई की रात हुए शूटआउट मामले में एक जेसीबी ड्राइवर राहुल पाल को गिरफ्तार किया है। यह वही शख्स है, जिसने गैंगस्टर विकास दुबे के कहने पर उसके घर के सामने रोड पर जेसीबी लगाकर दबिश देने पहुंची पुलिस टीम का रास्ता रोका था। आरोपी राहुल शूटआउट का चश्मदीद है।

उसने बताया कि विकास दुबे की छत पर 20-25 असलहाधारी बैठे थे, जो पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर रहे थे। जब कई पुलिसकर्मी गोली लगने से ढेर हो गए तो दुबे ने चिल्लाकर ‘गनकट’ कहा था। इसके बाद सन्नाटा पसर गया और बदमाश अपनी पोजिशन छोड़कर फरार हो गए थे। पुलिस राहुल से पूछताछ कर रही है।

कानपुर पुलिस ने उसी जेसीबी से विकास दुबे का घर ढहाया था, जिससे उसने पुलिस का रास्ता रोका था।

विकास दुबे के मामा पांडेय ने जेसीबी लेकर चलने को कहा था
जेसीबी ड्राइवर राहुल पाल ने बताया, “दो जुलाई को मैं खेत पर काम कर रहा था। मेरे पास विकास दुबे का मामा प्रेम प्रकाश पांडेय आया था। उसने कहा कि जेसीबी लेकर चलो। विकास भैया ने बुलाया है। अर्जेंट काम है। जल्दी गाड़ी ले चलो। जब मैं बिकरू गांव पहुंचा तो देखा कि वहां पर काफी लोग खड़े थे।

जहां पर मैं पहले जेसीबी खड़ी करता था वहीं पर साइड खड़ी करने लगा। इस विकास दुबे ने कहा कि जेसीबी रास्ते में लगा दो। मैंने कहा कि रास्ता जाम हो जाएगा, इस पर विकास दुबे मुझसे कहने लगे कि जितना कहता हूं, उतना सुन ज्यादा बकवास करने का टाइम नहीं है।”

विकास की छत पर बैठे थे 20 से 25 असलहाधारी
राहुल ने बताया, “मैंने गाड़ी को रास्ते में लगा दिया और नीचे उतरने लगा तो विकास दुबे ने गाड़ी में सोने के लिए कहा। फिर उसने वहां मौजूद धीरू नाम के शख्स से कहा कि इसे ले जाकर छत पर बंद कर दो। मुझे विकास दुबे की छत पर चढ़ा दिया गया। जीने से लगी खिड़की पर कुंडी लगा दी गई थी।

जब छत पर पहुंचा तो देखा कि 20 से 25 लोग बैठे हुए थे और सभी के हाथों में असलहे थे। मैं उसमें विकास दुबे, धीरू, अमर दुबे, अतुल दुबे, प्रभात मिश्रा, प्रेम प्रकाश, सूबेदार को मैं पहचानता था। इसके अलावा नए चेहरे थे, उनकों मैं नहीं पहचानता था।”

छत की छज्जे पर लेटकर बचाई थी जान- राहुल पाल
राहुल ने बताया, “मैं बहुत घबराया हुआ था, कुछ देर बाद वहां पर फायरिंग होने लगी। छत किनारे एक छज्जा था, मैं वहीं लेट गया। बहुत जबरदस्त फायरिंग हो रही थी। मुझे बाद में पता लगा कि पुलिस वालों पर फायरिंग हो रही थी। छत से विकास के आदमी गोली चला रहे थे। लगभग 15 से 20 मिनट फायरिंग होने के बाद विकास दुबे की अवाज आई ‘गनकट’ इसके बाद पूरा माहौल शांत हो गया था। थोड़ी देर मैंने देखा कि टार्च ही टार्च जल रही थी। किसी तरह से मैं वहां से कूद कर भाग गया।”

विकास दुबे। पुलिस ने इसका 10 जुलाई की सुबह एनकाउंटर कर दिया था।

आठ पुलिसकर्मियों की हुई थी हत्या

बिकरु गांव चौबेपुर थाना क्षेत्र में है। दो जुलाई को बिकरु गांव में चौबेपुर के अलावा शिवराजपुर और बिठूर थाने की फोर्स लेकर सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्र विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए दबिश देने पहुंचे थे। लेकिन, विकास दुबे को दबिश की भनक पहले ही लग गई थी।

टीम के पहुंचते ही गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने हमला कर दिया था, जिसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की जान गई थी। जबकि, छह पुलिसकर्मी घायल हुए थे। अब इस मामले में 11 आरोपी फरार हैं। जबकि, विकास दुबे समेत छह आरोपियों का एनकाउंटर हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वीकेंड से पहले ही शुक्रवार को दिनभर पर्यटकों ने नैनी झील में नौका विहार का लिया आनंद

नैनीताल नगर में वीकेंड से पहले ही पर्यटकों की शुक्रवार को दिनभर चहल-पहल रही। इसी तहर शनिवार को भी यहां पर्यटकों की चहल-पहल बरक़रार...

आज अष्टमी व नवमी के अवसर पर मंदिरों और घरों में किया जा रहा कन्या पूजन

शारदीय नवरात्र की अष्टमी व नवमी आज बड़े धूम धाम से मनाई जा रही है। इस दौरान सुबह से ही घरों और मंदिरों में...

दशहरा 2020 : इस बार देहरादून में सादगी से मनाया जाएगा दशहरा 10 फीट के रावण होगा दहन

देहरादून के परेड ग्राउंड में होने वाले ऐतिहासिक रावण दहन कार्यक्रम इस बार रेसकोर्स स्थित बन्नू स्कूल में होगा। इस बार बीच रावण की...

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना डाली दो किमी सड़क, पढ़िए

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने बिना सरकारी मदद के अपने गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए दो किलोमीटर सड़क खोद डाली। चमोली जिले...

Recent Comments