34.3 C
Dehradun
Monday, March 1, 2021
Home देश बजट 2021 के पेश होने के बाद विपक्ष ने सरकार पर किया...

बजट 2021 के पेश होने के बाद विपक्ष ने सरकार पर किया पलटवार, कहा इससे आम जनता को मिला बड़ा धोखा

- Advertisement -
- Advertisement -

1 फरवरी को आम जनता के लिए बजट 2021 पेश किया गया। जिससे आम जनता कुछ ज्यादा खुश नहीं दिखी। ऐसे में विपक्ष ने भी सरकार पर पलटवार किया। सरकार जहां बजट को सभी वर्गों के लिए फायदेमंद बता रही है तो वहीं विपक्ष ने इसे खराब बजट कहा है। इस बीच विपक्ष ने ट्वीट कर बजट को लेकर अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। शशि थरूर ने अपने ट्वीट में बीजेपी सरकार की तुलना ‘मोटर मैकेनिक’ से की है, तो वहीं टीएमसी ने कहा कि बजट का थीम है बेचो भारत को।

शशि थरूर ने ट्वीट करके कहा है, ”बीजेपी की ये सरकार मुझे उस गैराज मैकेनिक की याद दिलाती है, जो अपने ग्राहक से कहता है, “मैं तुम्हारी गाड़ी के ब्रेक ठीक नहीं कर पाया, इसलिए मैंने तुम्हारा हॉर्न तेज कर दिया है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ”सरकार लोगों के हाथों में पैसे देने के बारे में भूल गई। मोदी सरकार की योजना भारत की संपत्तियों को अपने पूंजीपति मित्रों को सौंपने की है।”

टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने ट्वीट करके कहा है कि भारत का पहला पेपरलेस बजट भी 100% दृष्टिहीन बजट है। बजट का थीम है बेचो भारत को! रेलवे: बेची गई, हवाई अड्डे: बेचा, बंदरगाह: बेचा, बीमा: बेचा, PSUs: 23 बिके!  तृणमूल कांग्रेस सांसद ने दावा किया कि बजट में आम आदमी और किसानों की अनदेखी की गयी है और यह अमीरों को और धनवान तथा निर्धन को और गरीब बनाएगा, वहीं मध्यम वर्ग को इसमें कुछ भी नहीं मिला है।

बजट पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी अपनी बात रखी है। उन्होंने कहा, “यह बजट चंद बड़ी कम्पनियों को फायदा पहुंचाने वाला बजट है। ये बजट महंगाई के साथ आम जन-मानस की समस्याएं बढ़ाने का काम करेगा।

संजय सिंह ने बजट की आलोचना करते हुए ट्वीट किया, “आख़िर ये देश किसका है? 130 करोड़ लोगों का या मोदी जी के 4 पूँजीपति मित्रों का? सपूत संपत्ति बनाता है, कपूत सम्पत्ति बेचता है। आज का बजट देश को बेचने का बजट है।”

मायावती ने कहा, ”देश की करोड़ों गरीब, किसान और मेहनतकश जनता केन्द्र और राज्य सरकारों के अनेक प्रकार के लुभावने वादे, खोखले दावे और आश्वासनों से काफी थक चुकी है तथा उनका जीवन लगातार त्रस्त है। सरकार अपने वादों को जब जमीनी हकीकत का रूप देगी तभी यह बेहतर होगा।”

अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि वर्तमान परिस्थितियों से उबरने के लिए संसद में आज पेश बजट 2021-22 को लेकर जो उम्मीद की जा रही सरकार वैसा बजट देने में असफल रही है और अत्यंत सामान्य बजट पेश कर सिर्फ निजीकरण को बढावा देने का काम किया गया है।

कांग्रेस प्रवक़्ता मनीष तिवारी ने ट्वीट किया, ‘‘वित्त मंत्री के भाषण में इसका कोई जिक्र ही नहीं हुआ कि जीडीपी में 37 महीनों की रिकॉर्ड गिरावट है। 1991 के बाद से यह सबसे बड़ा संकट है।’’ उन्होंने दावा किया कि देश की बहुमूल्य संपत्तियों को बेचने के अलावा बजट में कोई मुख्य ध्यान नहीं दिया गया।

इसी तरह विपक्ष ने इस बजट को आम जनता के साथ एक बहुत बड़ा धोखा बताया। इससे आम जनता का नुकसान ही है। गरीब जनता कैसे अपनी स्थिति को सुधार पाएगी, कैसे अपनी जरूरतों को पूरा करेगी। इस बजट के पेश होने के बाद ऐसा लग रहा है जैसे महंगाई का दौर शुरू हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments