34.3 C
Dehradun
Saturday, October 24, 2020
Home देश अमेरिका से आएँगे 72000 असॉल्ट राइफल, 1.5 लाख जवान इसी हथियार का...

अमेरिका से आएँगे 72000 असॉल्ट राइफल, 1.5 लाख जवान इसी हथियार का करेंगे इस्तेमाल

- Advertisement -
- Advertisement -

चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना अमेरिका से 72000 एसआईजी 716 असॉल्ट राइफल खरीदने जा रही है। अमेरिका से पहले ही 72 हजार राइफलें सेना की नार्दन कमांड और दूसरे ऑपरेशन इलाकों में तैनात सैनिकों को मिल चुकी हैं। यह राइफलों का दूसरा बैच होगा। नए हथियारों की खरीद फास्ट-ट्रैक पर्चेज (एफटीपी) के तहत की जा रही है।

अमेरिका की हथियार बनाने वाली कंपनी सिग सॉयर राइफलों की आपूर्ति करेगी। इन्हें अमेरिका में बनाया जाएगा। ये नई राइफलें मौजूदा समय में भारतीय सेनाओं में इस्तेमाल की जा रही इंडियन स्माल आर्म्स सिस्टम (इंसास) 5.56×45 मिमी राइफल को रिप्लेस करेंगी।

आतंकवाद विरोधी अधियान और एलओसी पर तैनात जवानों के लए 1.5 लाख राइफलें इम्पोर्ट की जानी हैं। बाकी जवानों को एके-203 राइफलें दी जाएंगी। इनको भारत और रूस मिलकर अमेठी की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में बनाएंगे। अभी इस प्रोजेक्ट पर काम नहीं शुरू हो पाया है।

यूएस राइफल में ज्यादा पावरफुल गोलियों का इस्तेमाल
एसआईजी 716 असॉल्ट राइफल क्लोज और लॉन्ग काम्बैट की लेटेस्ट टेक्निक से लैस हैं। सेना अभी जो इंसास राइफलें इस्तेमाल कर रही है, उसमें मैग्जीन टूटने की कई शिकायतें आई हैं। नई राइफलों में ऐसी कोई समस्या नहीं है।
इंसास राइफलों से 5.56×45 मिमी कारतूस ही दागे जा सकते हैं, जबकि एसआईजी 716 राइफल में अधिक ताकतवर 7.62×51 मिमी कारतूस का इस्तेमाल होता है।

इजराइल को 16 हजार एलएमजी का ऑर्डर
रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में इजराइल से 16 हजार लाइट मशीन गन (एलएमजी) खरीदने का ऑर्डर दिया है। इंडियन आर्मी अपनी स्टैंडर्ड इंसास असॉल्ट राइफलों को कई सालों से बदलना चाह रही थी। इसी प्रक्रिया के तहत सेना फास्ट-ट्रैक पर्चेज पर फोकस कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

दशहरा 2020 : इस बार देहरादून में सादगी से मनाया जाएगा दशहरा 10 फीट के रावण होगा दहन

देहरादून के परेड ग्राउंड में होने वाले ऐतिहासिक रावण दहन कार्यक्रम इस बार रेसकोर्स स्थित बन्नू स्कूल में होगा। इस बार बीच रावण की...

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने सिस्टम को दिखाया आइना, श्रमदान कर खुद बना डाली दो किमी सड़क, पढ़िए

सतभयकोट-खुलाई के ग्रामीणों ने बिना सरकारी मदद के अपने गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए दो किलोमीटर सड़क खोद डाली। चमोली जिले...

दुखद खबर: ड्यूटी के दौरान हुई टिहरी गढ़वाल के ITBP जवान की मौत, घर वालो का रो-रोकर बुरा हाल

टिहरी गढ़वाल के चंबा के स्यूंटा गांव निवासी आइटीबीपी के जवान विजय सिंह पुंडीर की ड्यूटी के दौरान मौत हो गई। बताया जा रहा...

चारधाम रेल परियोजना: अधूरे रास्ते में ना छोड़कर अब श्रद्धालुओं को सीधे धामों तक पहुंचाएगी रेल, चारधाम यात्रा होगी और अधिक सुगम ! जानिए

उत्तराखंड में सबसे महत्वकांक्षी रेल परियोजना है चारधाम रेल परियोजना। चारधाम रेल परियोजना का काम जोरों-शोरों से चल रहा है। ऋषिकेश- कर्णप्रयाग रेल परियोजना...

Recent Comments